Tag Archives: Exam GK

उत्तर प्रदेश वानिकी

वनों के प्रकार : तराई के नम क्षेत्र वाले वन, विन्ध के शुष्क जलवायु के वन, बीहड़ व भाबर वन, सामाजिक तथा पंचायती वन | वन क्षेत्र :  21,833 वर्ग किमी वन्य जीव विहार :  24 प्राणी उदयान  : 2 राष्ट्रीय उदयान : 1 प्रमुख वन्य जीव :  बाघ, जंगली हाथी, गैंडा, बारहसिंगा, हिरन, सुइस… Read More »

उत्तर प्रदेश में प्रथम

उत्तर प्रदेश की प्रथम महिला मुख्यमंत्राी का नाम सुचेता कृपलानी  है उत्तर प्रदेश की पहिला राज्यपाल महिला श्रीमती सरोजनी नायडू थी उत्तर प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री श्री गोविन्द बल्लभ पंत थे उत्तर प्रदेश  का प्रथम हिंदी दैनिक समाचार पत्र हिन्दोस्तान का प्रकाशन 1887 ई मे प्रतापगढ़ में हुआ जिसे कालाकांकर के राजा रामपाल सिंह ने… Read More »

हिन्दी व्याकरण – शब्द भंडार – अनेक के एक शब्द

इसे इस प्रकार समझा जा सकता है-   1 जहाँ पहुँचा न जा सके   अगम, अगम्य 2 जिसे बहुत कम ज्ञान हो, थोड़ा जानने वाला   अल्पज्ञ 3 मास में एक बार आने वाला   मासिक 4 जिसके कोई संतान न हो   निस्संतान 5 जो कभी न मरे   अमर 6 जिसका आचरण अच्छा… Read More »

हिन्दी व्याकरण – शब्द रचना – उपसर्ग और प्रत्यय

रचना या बनावट के आधार पर शब्द तीन प्रकार के होते हैं-   रूढ   यौगिक और   योगरूढ़     रूढ़ शब्द वह होते हैं जो परंपरा से एक विशेष अर्थ में चले आ रहे हैं और इनका शब्दांश या शब्द खंड निरर्थक होते हैं । जैसे- हवा, बकरी, नीम इत्यादि ।   यौगिक शब्द वह… Read More »

हिन्दी व्याकरण – शब्द रचना – समास

समास की परिभाषा क्या है ? समास का अर्थ है ‘संक्षिप्तीकरण’। दो या दो से अधिक शब्दों से मिलकर बने हुए एक नये और सार्थक शब्द को समास कहते हैं ।   जैसे- कमल के समान नयन  इसे हम कमलनयन  भी कह सकते हैं। सामासिक शब्द समास के नियमों से बने शब्द सामासिक शब्द कहलाते हैं । इसे समस्तपद भी… Read More »

हिन्दी व्याकरण – शब्द रचना – संधि

संधि किसे कहते हैं ? दो वर्णों या ध्वनियों के विकार से होने वाले विकार को संधि कहते हैं । जैसे- विद्या+आलय= विद्यालय, सु+उक्ति= सूक्ति, गण+ईश= गणेश । संधि के भेद संधि के भेद-संधि तीन प्रकार की होती हैं- 1. स्वर संधि 2. व्यंजन संधि और 3. विसर्ग संधि विस्तार से- 1. स्वर संधि दो स्वरों… Read More »

हिन्दी व्याकरण – वाक्य

वाक्य-विश्लेषण सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि वाक्य क्या है । एक विचार को पूर्ण रूप से प्रकट करने वाला शब्द-समूह वाक्य कहलाता है । जैसे- मैं दो दिन से बीमार हूं ।   इसी तरह, किसी वाक्य के विभिन्न घटकों (पदों या पदबंधों) को अलग-अलग करके उनके परस्पर संबंध को बताना वाक्य विश्लेषण कहा जाता है । इस… Read More »

हिन्दी व्याकरण – अव्यय

अव्यय किसे कहते हैं ? अव्यय का शाब्दिक अर्थ है जिस शब्द का कुछ भी व्यय न हो । दूसरे रूप में, अव्यय वे शब्द हैं जिनके रूप में लिंग-वचन-पुरुष-काल इत्यादि व्याकरणिक कोटियों के प्रभाव से कोई परिवर्तन नहीं होता । जैसे-  पर,  लेकिन,  ताकि,  आज,  कल,  तेज,  धीरे,  अरे,  ओह  इत्यादि । अव्यय के… Read More »

दिल्ली की जलवायु

दिल्ली की जलवायु उपोष्ण है। दिल्ली में गर्मी के महीने मई तथा जून बेहद शुष्क और झुलसाने वाले होते हैं। दिन का तापमान कभी-कभी 40-45 सेल्सियस तक पहुँच जाता है। मानसून जुलाई में आता है। और तापमान को कम करता है। लेकिन सितंबर के अंत तक मौसम गर्म, उमस भरा और कष्टप्रद रहता है। यहाँ… Read More »

हिन्दी व्याकरण – विराम-चिह्न

विराम चिह्न क्या है ? क्या आपने कभी सोचा है कि बोलते समय सभी वाक्यों को लगातार नहीं बोला जा सकता । हमें अपनी कहने के लिए (स्पष्ट और सटीक बनाने के लिए) बोलने में थोड़ा रुकना होता है । हम एक वाक्य के बाद थोड़ा रुकते हैं । जैसे- निशांत अरबपति है । इस… Read More »