हिन्दी व्याकरण – शब्द भंडार – पर्यायवाची शब्द

By | 19/03/2016

पर्यायवाची का तात्पर्य क्या है ?

पर्याय का मतलब है- समान । यानी समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यावाची शब्द कहते हैं ।

 

पर्यायवाची शब्दों से किसी भी भाषा की सबलता की बहुता को दर्शाता है ।

पर्यायवाची शब्द के कुछ उदाहरण-

 

शब्द पर्यायवाची

 

अचानक अकस्मात, अनायास, एकाएक, दैवयोग

 

अर्थ अभिप्राय, प्रयोजन, आशय, तात्पर्य, मतलब

 

अर्जुन भारत, गुडाकेश, पार्थ, सहस्त्रार्जुन

 

अग्नि आग, अनल, पावक, ज्वाला, वह्नि

 

अनुपम अद्वितीय, अनोखा, अपूर्व,अद्भुत, निराला, अनूठा

 

अश्व घोड़ा, तुरंग, हय, वाजि, घोटक, सैंधव

 

अमृत सुधा, पीयूष, अमिय, सोम, अमी

 

अहंकार दंभ, घमंड, दर्प, अभिमान

 

अंधकार तिमिर, अँधेरा, तम, तमिस्त्र

 

आँख नेत्र, लोचन, दृग, चक्षु, नयन, विलोचन

 

आकाश गगन, आसमान, अंबर, नभ, अनंत, शून्य, व्योम

 

आभूषण अलंकार, भूषण, गहना, जेवर

 

इंद्र सुरेश,  देवेंद्र,  देवराज,  पुरंदर, सुरपति, महेंद्र, देवेश

 

इच्छा आकांक्षा,  चाह,  अभिलाषा,  कामना

 

ईश्वर प्रभु,  परमेश्वर,  भगवान,  परमात्मा, दीनबंधु, जगन्नाथ
उन्नति उत्थान, विकास, प्रगति, अभ्युदय, उत्कर्ष

 

उद्यान बाग, बगीचा, फुलवारी, उपवन, वाटिका

 

कपड़ा वस्त्र, पट, अंबर, वसन, चीर

 

कमल जलज, अंबुज, नीरज, पंकज, वारिज, अरविंद, सरसिज, नलिन, राजीव, सरोज
कामदेव मदन, मनसिज, मनोज, विश्वकेतु, काम, पंचशर, रतिपति, अनंग
किरण अंशु, कर, रश्मि, मरीचि, मयूख

 

किनारा तट, तीर, कगार, कूल

 

कोयल पिक, कोकिला, श्यामा, वसंतदूत

 

कृष्ण श्याम, घनश्याम, कान्हा, केशव, माधव, वासुदेव, गोपाल, राधा-वल्लभ, मोहन, गिरिधर, मुरारि
कुबेर किन्नरेश, यक्षराज, घनंद, धनपति

 

गणेश गणपति, गजानन, गजवदन, विनायक, भवानीनंदन, विघ्नेश, लंबोदर, मोदकप्रिय, एकदंत
गंगा सुरसरि, सुरसरिता, देवनदी, भागीरथी, मदांकिनी, अलकनंदा, त्रिपथगा
गरमी ग्रीष्म,  ताप,  निदाघ,  ऊष्मा

 

घर निकेतन,  भवन,  आलय, गृह

 

चंद्र चाँद,  चंद्रमा,  विधु,  शशि,  राकेश

 

चतुर पटु, सयाना, कुशल, योग्य, निपुण, दक्ष, नागर, प्रवीण, होशियार
चाँदनी ज्योत्सना, कौमुदी, चंद्रिका, अमृत तरंगिणी

 

जल वारि,  पानी,  नीर,  सलिल,  तोय

 

जंगल वन, कांतार, कानन, अरण्य, विपिन

 

तलवार असि, खड्ग, शमशीर, चंद्रहास, करवाल

 

तारा नखत, उडु, नक्षत्र, तारिका, तारक

 

तीर बाण, शर, इषु, आशुगू, शिलीमुख

 

तालाब सरोवर, सर, ताल, जलाशय, तड़ाग, पुष्कर

 

दुख कष्ट, शोक, व्यथा, वेदना, पीड़ा, क्षोभ, विषाद

 

दिन दिवस, वासर, वार, अह्न

 

दूध दुग्ध, क्षीर, पेय, गोरस

 

देवता सुर, देव, अमर, निर्जर, आदित्य, विबुध

 

दुर्गा चंडी, चंडिका, भवानी, काली, माता, कल्याणी, कामाक्षी
दुष्ट दुर्जन, अधम, नीच, खल, कुटिल

 

धन द्रव्य, दौलत, संपत्ति, वित्त, विभूति, अर्थ, मुद्रा, लक्ष्मी, श्री
नदी सरिता,  तटिनी,  तरंगिणी,  निर्झरिणी

 

पवन वायु,  समीर,  हवा,  अनिल

 

पत्नी भार्या,  दारा,  अर्धागिनी,  वामा

 

पुत्र बेटा,  सुत,  तनय,  आत्मज

 

पुत्री बेटी,  सुता,  तनया,  आत्मजा

 

पृथ्वी धरा,  मही,  धरती,  वसुधा,  भूमि,  वसुंधरा

 

पर्वत शैल,  नग,  भूधर,  पहाड़

 

बिजली चपला,  चंचला,  दामिनी,  सौदामनी

 

मेघ बादल,  जलधर,  पयोद,  पयोधर,  घन

 

राजा नृप, नृपति,  भूपति,  नरपति

 

रजनी रात्रि,  निशा,  यामिनी,  विभावरी

 

सर्प सांप,  अहि,  भुजंग,  विषधर

 

सागर समुद्र,  उदधि,  जलधि,  वारिधि

 

सिंह शेर,  वनराज,  शार्दूल,  मृगराज

 

सूर्य रवि,  दिनकर,  सूरज,  भास्कर

 

स्त्री ललना,  नारी,  कामिनी,  रमणी, महिला

 

शिक्षक गुरु,  अध्यापक,  आचार्य,  उपाध्याय

 

हाथी कुंजर,  गज,  द्विप,  करी,  हस्ती

 

हाथ कर, पाणि, हस्त

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *