हिन्दी व्याकरण – विराम-चिह्न

By | 29/01/2016

विराम चिह्न क्या है ?

क्या आपने कभी सोचा है कि बोलते समय सभी वाक्यों को लगातार नहीं बोला जा सकता । हमें अपनी कहने के लिए (स्पष्ट और सटीक बनाने के लिए) बोलने में थोड़ा रुकना होता है । हम एक वाक्य के बाद थोड़ा रुकते हैं ।

जैसे- निशांत अरबपति है ।

इस वाक्य को पढ़ने के बाद रुकने के लिए जिस चिह्न का इस्तेमाल किया गया है । उसे ही विराम चिह्न कहते हैं । ये चिह्रन   ,  ? इत्यादि ] हो सकते हैं ।   

विराम को प्रकट करने के लिए जिन चिह्नों का प्रयोग किया जाता है, वो ये हैं-

नाम चिह्न

 

अल्प विराम ,

 

अर्ध विराम :

 

पूर्ण विराम

 

विस्मयादिबोधक !

 

प्रश्नवाचक ?

 

कोष्ठक () {} []

 

निर्देशक चिह्न _

 

उद्धरण चिह्न “ ”

 

विवरण या आदेश :-

 

योजक या विभाजक
लाघव 0

 

हंसपद या त्रुटिपूरक ^

 

 

उदाहरण-

बच्चे खेल रहे थे ।

इस वाक्य में पूर्ण विराम चिह्न (।) है ।

शराब पीना, सिगरेट पीना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है ।

इस वाक्य में अल्प विराम चिह्न (,) का इस्तेमाल है ।

काश ! ऐसा होता ।

इसमें विस्मयादिबोधक चिह्न (!) का प्रयोग किया गया है ।

तुमने ऐसा क्यों किया ?

यहां (?) प्रश्नवाचक लगाया गया है ।

वह बी.ए. तक पढ़ा है ।

इस वाक्य में बी.ए. में इस्तेमाल चिह्न लाघव या संक्षेपसूचक है ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *