हमारे स्थलमंडल – कुछ तथ्य

By | 25/01/2016

क्र तथ्य
1 पृथ्वी की आकृति जियाड एवं लद्यवक्ष गोलाभ है |
2 पृथ्वी की घूर्णन गति के कारण दिन एवं रात की घटना होती है | पृथ्वी की परिक्रमण गति के कारण ऋतू परिवर्तन होता है |
3 नक्षत्र दिवस का मान 23 घंटे 56 मिनिट .099 सेकंड होता है |
4 पृथ्वी सूर्य का चक्कर 365.24 दिन में लगाती है |
5 पृथ्वी के नीचे जाने पर प्रति 32 किमी की गहराई पर 1 डिग्री तापमान बढ़ता जाता है |
6 कोरियालिस प्रभाव एवं फौकाल्ट पेंडुलम द्वारा पृथ्वी की घूर्णन गति को समझा जा सकता है |
7 स्टेलर परालेक्सस द्वारा पृथ्वी की परिक्रमण को समझा जा सकता है |
8 बसंत विषुव की घटना 21 मार्च (दिन-रात सामान) एवं शरद विषुव की घटना 23 दिसंबर (दिन-रात सामान) को होती है |
9 सूर्यग्रहण की घटना सदैव अमावस्या को ही होती है | परन्तु चंद्रमा के कक्ष तलों में 5 डिग्री झुकाव के कारण प्रत्येक अमावस्या को नही होती है |
10 सूर्यग्रहण की घटना में पृथ्वी एवं सूर्य के बीच चंद्रमा आ जाता है | सूर्यग्रहण के समय सूर्या के दिखाई देने वाले भाग को सूर्य किरीट (Corona) कहते है |
11 एक वर्ष में न्यूनतम दो एवं अधिकतम सात ग्रहण हो सकते है |
12 चंद्रग्रहण की घटना, सूर्य एवं चन्द्रमा के बीच पृथ्वी के आ जाने के कारण होता है |
13 चन्द्रग्रहण की घटना सदैव पूर्णिमा को ही होती है | परन्तु पृथ्वी एवं चंद्र के कक्ष तलों में 5 डिग्री झुकाव के कारण प्रत्येक पूर्णिमा को नही होती है |
14 ग्लोब पर पश्चिम से पूर्व की ओर खिंची गई काल्पनिक रेखाओं को अक्षांश कहते है |
15 23.5 डिग्री उत्तरी अक्षांश को कर्क रेखा तथा 23.5 डिग्री दक्षिणी अक्षांश को मकर रेखा कहते है |
16 पृथ्वी पर दो अक्षांशो के मध्यकोणीय दूरी को देशांतर कहते है | दो देशान्तर रेखाओं के बीच की दूरी गोरे के नाम से जानी जाती है |
17 0 डिग्री देशान्तर रेखा (ग्रीनविच रेखा) को पृथ्वी की मानक समय रेखा माना जाता है |
18 पृथ्वी 4 मिनिट में 1 डिग्री देशांतर दूरी तय करती है |
19 अंतर्राष्ट्रीय तिथि रेखा की कल्पना 180 डिग्री देशांतर पर उत्तर से दक्षिण की गई है | इस रेखा के पूर्व एवं पश्चिम में एक दिन का अंतर माना जाता है |
20 पृथ्वी की आन्तरिक संरचना को क्रमशः भूपर्पटी(Crust), आवरण(Mantal), केन्द्रीय भाग(Core) नामक तीन परतो में विभाजित किया जाता है |
21 क्रस्ट में सर्वाधिक मात्रा में पाया जाने वाला तत्व ऑक्सिजन 46.5% है |
22 सम्पूर्ण पृथ्वी में लोहा 35% सर्वाधिक मात्रा में पाया जाता है |
23 पृथ्वी पर 70.2% भाग में जलमंडल तथा 29.8% भाग में स्थाल्मंडल है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *