उत्तर वैदिक काल

By | 21/01/2016

उत्तर वैदिक कालखंड कब से कब तक था ?

1000 ई.पू. से 600 ई.पू. तक

उत्तर वैदिक काल के जानकारी के स्त्रोत क्या हैं ?

यजुर्वेद, सामवेद तथा अथर्ववेद

उत्तर वैदिक काल की विशेषता क्या है ?

चित्रित घूसर, मृदभाण्ड तथा लोहा

किस उपनिषद में मनुष्य के जीवन को चार आश्रमों में बाटा गया है ?

छान्दोग्य उपनिषद

मनुष्य के जीवन को किन चार आश्रमों में बांटा गया है ?

ब्रह्मचर्य, गृहस्थ, वानप्रस्थ तथा संन्यास ।

नाटकों के मंचन को क्या कहा जाता था ?

शैलूष

पांचाल राज्य किस चीज को लेकर विख्यात था ?

दार्शनिक राजाओं और तत्वज्ञानी ब्राह्मणों को लेकर

वैदिक काल का सबसे बड़ा और ज्यादा लौह पुंज कहां मिला है ?

अतरंजीखेड़ा

धनवान व्यक्ति को क्या कहा जाता था ?

इभ्य

उत्तर वैदिक काल में किन सिक्कों का जिक्र मिलता है ?

निष्क, शतमान तता कृष्णल

मिट्टी के एक विशेष प्रकार के बनाए बर्तन को क्या कहा जाता था ?

चित्रित धूसर मृदभाण्ड ( PAINTED GREY WARE-PWG)

24 बैलों द्वारा खींचे जाने वाले हलों का उल्लेख कहां मिलता है ?

काठक

किस उपनिषद में अन्न को ब्रह्मा कहा गया है ?

तैत्तिरीय उपनिषद

यजुर्वेद में हल को क्या नाम दिया गया है ?

सीर

उत्तर वैदिक काल के महत्वपूर्ण देवता थे ?

प्रजापति

  शुद्रों के देवता के रुप कौन प्रचलित थे ?

पूषन

राज्याभिषेक का किस वेद में उल्लेख है ?

अर्थवेद

छोटे न्यायालय को क्या कहा जाता था ?

ग्राम्य वादिन

उत्तर वैदिक यज्ञ कौन-कौन से थे ?

राजसूय, वाजपेय, अश्वमेघ, अग्निष्टोम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *