हिन्दी व्याकरण – वचन

By | 19/01/2016

हिंदी व्याकरण में वचन को किस रूप में परिभाषित किया गया है ?

शब्द के जिस रुप से एक या अनेक का बोध होता है उसे वचन कहते हैं ।

वचन दो होते हैं-

  1. एकवचन
  1. बहुवचन

एकवचन

शब्द के जिस रूप से एक ही वस्तु का बोध हो,  उसे एकवचन कहते हैं ।

जैसे बच्चा,  कपड़ा,  माता, लड़का,  गाय,  माला,  पुस्तक,  स्त्री,  टोपी इत्यादि ।

 

बहुवचन

शब्द के जिस रूप से एक से अधिक का बोध हो उसे बहुवचन कहते हैं ।

जैसे लड़के,  गायें,  कपड़े,  टोपियाँ,  मालाएँ,  पुस्तकें,  वधुएँ,  गुरुजन, रोटियाँ इत्यादि ।

एकवचन के स्थान पर बहुवचन का प्रयोग

(I)  आदर के लिए भी बहुवचन का प्रयोग होता है ।

       जैसे शिवाजी सच्चे वीर थे ।

(II)  बड़प्पन दर्शाने के लिए कुछ लोग वह के स्थान पर वे और मैं के स्थान हम का प्रयोग करते हैं

       जैसे मालिक ने कर्मचारी से कहा,  हम मीटिंग में जा रहे हैं ।
(III)  केश,  रोम,  अश्रु,  प्राण,  दर्शन,  लोग,  दर्शक,  समाचार,  दाम,  होश,  भाग्य इत्यादि ऐसे शब्द हैं जिनका प्रयोग बहुधा बहुवचन में ही होता है ।

        जैसे होश उड़ गए ।

बहुवचन के स्थान पर एकवचन का प्रयोग

(I)  तू एकवचन है जिसका बहुवचन है तुम किन्तु सभ्य लोग आजकल लोक-व्यवहार में एकवचन के लिए तुम का ही प्रयोग करते हैं ।

       जैसे क्या तुमने खाना खा लिया ।
(II)  वर्ग, वृंद, दल, गण, जाति आदि शब्द अनेकता को प्रकट करने वाले हैं, किन्तु इनका व्यवहार एकवचन के समान होता है।

       जैसे स्त्री जाति संघर्ष कर रही है ।
(III)  जातिवाचक शब्दों का प्रयोग एकवचन में किया जा सकता है।

       जैसे महाराष्ट्र का आम स्वादिष्ट होता है

बहुवचन बनाने के नियम

(I)  अकारांत स्त्रीलिंग शब्दों के अंतिम  को एँ कर देने से शब्द बहुवचन में बदल जाते हैं।

जैसे-

 

एकवचन बहुवचन

 

सड़क सड़कें
गाय गायें
बात बातें
आँख आँखें
बहन बहनें
पुस्तक पुस्तकें

 

 

(II)  आकारांत पुल्लिंग शब्दों के अंतिम   को   कर देने से शब्द बहुवचन में बदल जाते हैं।

जैसे-

 

एकवचन बहुवचन एकवचन बहुवचन

 

केला केले बेटा बेटे
घोड़ा घोड़े कौआ कौए
कुत्ता कुत्ते गधा गधे

 

(III)  आकारांत स्त्रीलिंग शब्दों के अंतिम   के आगे एँ  लगा देने से शब्द बहुवचन में बदल जाते हैं ।

जैसे-

 

एकवचन बहुवचन एकवचन बहुवचन

 

कन्या कन्याएँ अध्यापिका अध्यापिकाएँ
कला कलाएँ माता माताएँ
कविता कविताएँ लता लताएँ

(IV)  इकारांत अथवा ईकारांत स्त्रीलिंग शब्दों के अंत में याँ  लगा देने से और दीर्घ  को ह्रस्व  कर देने से शब्द बहुवचन में बदल जाते हैं ।

जैसे-

 

एकवचन बहुवचन

 

एकवचन बहुवचन
बुद्धि बुद्धियाँ गति गतियाँ
कली कलियाँ नीति नीतियाँ
कॉपी कॉपियाँ लड़की लड़कियाँ
थाली थालियाँ नारी नारियाँ

(V)  जिन स्त्रीलिंग शब्दों के अंत में या है उनके अंतिम  को आँ कर देने से वे बहुवचन बन जाते हैं ।

जैसे-

 

एकवचन

 

बहुवचन एकवचन बहुवचन
गुड़िया गुड़ियाँ बिटिया बिटियाँ
चुहिया चुहियाँ कुतिया कुतियाँ
चिड़िया चिड़ियाँ खटिया खटियाँ
बुढ़िया बुढ़ियाँ गैया गैयाँ

(VI)  कुछ शब्दों में अंतिम ,  और  के साथ एँ लगा देते हैं और दीर्घ  के साथन पर ह्रस्व  हो जाता है ।

जैसे-

 

एकवचन

 

बहुवचन एकवचन बहुवचन
गौ गौएँ बहू बहूएँ
वधू वधूएँ वस्तु वस्तुएँ
धेनु धेनुएँ धातु धातुएँ

(VII)  दल,  वृंद,  वर्ग,  जन लोग,  गण इत्यादि शब्द जोड़कर भी शब्दों का बहुवचन बना देते हैं।

जैसे-

 

एकवचन बहुवचन एकवचन बहुवचन
अध्यापक अध्यापकवृंद मित्र मित्रवर्ग
विद्यार्थी विद्यार्थीगण सेना सेनादल
आप आप लोग गुरु गुरुजन
श्रोता श्रोताजन गरीब गरीब लोग

(VIII)  कुछ शब्दों के रूप एकवचन  और बहुवचन  दोनो में समान होते हैं।

जैसे-

 

एकवचन बहुवचन एकवचन बहुवचन
क्षमा क्षमा नेता नेता
जल जल प्रेम प्रेम
गिरि गिरि क्रोध क्रोध
राजा राजा पानी पानी

(IX)  जब संज्ञाओं के साथ ने, को, से आदि परसर्ग लगे होते हैं तो संज्ञाओं का बहुवचन बनाने के लिए उनमें   लगाया जाता है।

जैसे-

 

एकवचन बहुवचन

 

एकवचन बहुवचन
लड़के को बुलाओ  लड़को को बुलाओ । बच्चे ने गाना गाया बच्चों ने गाना गाया ।
नदी का जल ठंडा है।  नदियों का जल ठंडा है । आदमी से पूछ लो आदमियों से पूछ लो ।

 

(X)  संबोधन में   जोड़कर बहुवचन बनाया जाता है।

जैसे- भाइयों ! मेहनत करो ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *