राजस्थान में भरे जाने वाले राज्य स्तरीय पशु मेलें

By | 09/01/2016
क्र पशु मेला स्थान मुख्य नस्ल
1 पुष्कर पुष्कर (अजमेर) गीर
2 महाशिवरात्रि करौली हरियाणवी
3 मल्लीनाथ तिलवाड़ा (बाड़मेर) थारपारकर-कांकरेज
4 गोमतीसागर झालरापाटन (झालावाड़) मालवी
5 चंद्रभागा झालरापाटन (झालावाड़) मालवी
6 श्री बलदेव मेड़ता सिटी (नागौर) नागौरी
7 वीर तेजाजी परबतसर (नागौर) नागौरी
8 बाबा रामदेव नागौर नागौरी
9 जसवंत भरतपुर हरियाणवी
10 गोगामेड़ी गोगामेड़ी (हनुमानगढ) हरियाणवी

 

  • राजस्थान में भरे जाने वाले राज्य स्तरीय पशु मेलों की संख्या है – 10 दस
  • सर्वाधिक राज्य स्तरीय पशु मेले किस जिले में आयोजित होते है – नागौर (3)
  • वह स्थान जहां सर्वाधिक राज्य स्तरीय पशु मेले आयोजित होते है – झालरापाटन (2)
  • पुष्कर पशु मेला नवंबर माह में कार्तिक पूर्णिमा को भरता है।
  • तेजाजी पशु मेला कब भरता है – श्रावण पूर्णिमा से भाद्रपद अमावस्या
  • नागौर नस्ल के बैलों हेतू प्रसिद्ध रामदेव पशु मेला कब भरता है – माघ शुक्ला 1 से माघ पूर्णिमा तक
  • सर्वाधिक लंबी अवधि तक अर्थात एक माह तक लगने वाला पशु मेला – गोगामेडी पशु मेला
  • गोगामेड़ी पशु मेला श्रावण पूर्णिमा से भाद्रपद पूर्णिमा तक भरता है।
  • हाड़ौती क्षेत्र का सबसे बड़ा व सबसे प्रसिद्ध पशु मेला – गोमती सागर पशु मेला
  • आमदनी के लिहाज से राजस्थान का सबसे बड़ा पशु मेला/राजस्थान का सबसे बड़ा पशु मेला – वीर तेजाजी पशु मेला, परबतसर
  • राजस्थान का कौनसा पशु मेला अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कर चुका है – पुष्कर पशु मेला
  • गधों के मेले का आयोजन कहां होता है – लूणियावास (जयपुर)
  • किस पशु मेले के पश्चात माल मेला आयोजित होता है – महाशिवरात्रि पशु मेला
  • थारपारकर व काकंरेज नस्ल के क्रय-विक्रय हेतु प्रसिद्ध पशु मेला है – मल्लीनाथ पशु मेला, तिलवाड़ा
  • कौनसे दो राज्य स्तरीय पशु मेले एक ही दिन (श्रावण पूर्णिमा) से शुरू होते है – गोगामेड़ी व तेजाजी
  • शेखावाटी का प्रसिद्ध बदराना पशु मेला – नवलगढ (झुंझुनू)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *